Vedic Period in Hindi ( Vedic History )

आज हम आपके लिए लेकर आये हे वैदिक काल में हुए सभी प्रकार की घटनाओ के बारे में विस्तार से नोट्स जो की आपको सभी प्रकार की सरकारी परीक्षाओ में और हर प्रकार के जनरल क्नोलाज के प्र्शन पत्र को सरल करने में सहायता करेंगे।

आपको इस पोस्ट में हम वैदिक काल के महत्वपूर्ण विषय सिंधु घाटी सभ्यता , हड़प्पा सभ्यता , और उनके बाद आये जैन धर्म और बौद्ध धर्म के अनुयायियों के बारे में पूर्ण रूप से नोट्स आपको यह दिए जायेंगे जिनको पढ़ कर आप आसानी से आराम से परीक्षा के प्र्शन पत्र में दिए हुए प्रशनो का आसानी से जवाब दे सकते हे जिससे की आपका पेपर सफलता पूर्वक पूर्ण हो जायेगा।

भारत वर्ष में सबसे पुराण काल वैदिक काल को ही माना जाता हे तो आप सभी के लिए इससे जुडी हुयी सभी प्रकार की जानकारी यह पूर्ण रूप से दी हुयी हे जिन्हे आप ध्यान से पढ़े और आसानी से जवाब दे :-

वैदिक काल सिन्धु घाटी सभ्यता ( Vedic Period in Hindi ) :-

इस सभ्यता का संपूर्ण काल 3500 ई. पू. – 1750 ई. पू. कार्बन डेटिंग पद्धति से इसका काल 2350 ई. पूर्व से 1750 ई. पूर्व निर्धारित किया गया है। यह एक काँस्य युगीन (Bronze Age) सभ्यता थी, जिसे सर्वप्रथम एक अँग्रेज़ चार्ल्स मेसन ने 1826 ई. में हड़प्पा नामक स्थान पर एक पुरास्थल के रूप में पहचाना। इसे हड़प्पा सभ्यता भी कहा जाता है। यह सभ्यता सिन्धु नदी घाटी क्षेत्र में पनपी। सिंधु घाटी सभ्यता की खोज का श्रेय रायबहादुर दयाराम साहनी को दिया जाता है, जिन्होंने पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग के महानिदेशक ‘सर जॉन मार्शल’ के निर्देशन में सन् 1921 में इस स्थल का उत्खनन कराया। इस सभ्यता का क्षेत्र त्रिभुजाकार था। अधिकांश विद्वानों के मतानुसार
सिंधु सभ्यता के निर्माता द्रविड़ थे।

भारत में इसे प्रथम नगरीय क्रान्ति (सभ्यता) भी कहा जाता है, क्योंकि हमें इस सभ्यता के लगभग आठ शहर मिले हैं-
1. हड़प्पा, 2. मोहनजोदड़ो, 3. चन्हुदड़ो, 4. कालीबंगा, 5. बनवाली, 6. धोलावीरा, 7. सूरकोटड़ा, 8. लोथल

• सभ्यता के सर्वाधिक स्थल गुजरात में मिले हैं।
• सभ्यता की नवीनतम खोज- धोलावीरा (गुजरात)
• सभ्यता की खोजा गया नवीनतम स्थल – बालाथल (उदयपुर)
• सभ्यता का विस्तार क्षेत्र पश्चिम में सुत्कांगेडोर (बलूचिस्तान-पाकिस्तान) से, पूर्व में आलमगीरपुर ( उत्तर प्रदेश) तक और उत्तर में मोड़ा (कश्मीर) से दक्षिण में दायमाबाद (महाराष्ट्र) तक लगभग 13 लाख वर्ग किमी क्षेत्र सिन्धु घाटी सभ्यता की विशेषताएँ: यह एक नगरीय या शहरी सभ्यता थी।

सिन्धु घाटी सभ्यता की विशेषताएँ::-

यह एक नगरीय या शहरी सभ्यता थी।
● सुनियोजित नगर नियोजन- समकालीन काँस्ययुगीन सभ्यताओं में सर्वश्रेष्ठ नगर नियोजन ।
• दो भागों में बँटा शहर जिसका पश्चिमी हिस्सा क़िलेबन्द व पूर्वी हिस्सा खुला होता था।
• ग्रिड शैली में बसावट, जिसमें सड़कें एक दूसरे को समकोण में काटती थीं।
• जल निकासी की विलक्षण व्यवस्था- गन्दे पानी के निकास हेतु छोटी, बड़ी तथा गहरी नालियों की व्यवस्था थी।
• एक समान आकार की व पकी हुई ईंटों का प्रयोग।
• वृहद् अन्नागार – ये सिन्धु घाटी सभ्यता में सार्वजनिक वितरण प्रणाली की उपस्थिति को दर्शाते हैं। मोहनजोदड़ो और हड़प्पा से विशाल अन्नागारों के अवशेष प्राप्त हुए हैं।

● सार्वजनिक स्नानागार यह मोहनजोदड़ो में मिला है। यह 54 मीटर लम्बा एवं 33 मीटर चौड़ा था, जिसमें 39×23×8 फीट (11.89×7.01×2.43 मीटर) का कुण्ड बना हुआ था। जलाशय के चारों ओर बरामदे व स्नान हेतु चबूतरे बने हुए थे। स्नानागार का फर्श पक्की ईंटों का बना हुआ था। सिंधु समाज मातृ सत्तात्मक था। सिंधुवासी मृतक के पैर दक्षिण दिशा में रखकर गाढ़ते थे।
● शिकार करना सिंधुवासियों के मनोरंजन का प्रमुख साधन था। आवागमन के लिए बैलगाड़ियों का प्रयोग।
● सिंधुवासियों को लिपि का ज्ञान था। इस लिपि को भाव चित्रात्मक लिपि भी कहा गया है। यह लिपि क्रमश: दाई ओर से बाई ओर तथा बाई ओर से दाई ओर लिखी जाती है। बी. बी. लाल ने इसे ‘बुस्ट्रोफेदम’ नाम दिया है। यह लिपि अभी तक पढ़ी नहीं गई है।
● सिंधुवासियों को लोहे की जानकारी नहीं थी।
● कृषि – गेहूँ व जौ मुख्य खाद्यान्न थे।
• लोथल से धान और बाजरे की खेती के साक्ष्य मिले हैं।
• कपास की खेती के आरम्भिक साक्ष्य ।
• कालीबंगा से जुते हुए खेत के प्राचीनतम प्रमाण प्राप्त।
● ‘हल’ से अनभिज्ञ लेकिन ‘कुदाल’ का प्रयोग। पशुपालन: बैल, भेड़, बकरी, कुत्ता, बिल्ली मुख्य पशु थे। वे भैंस, गाय, हाथी, गधे, सूअर, गैंडे से परिचित थे।
• कूबड़ वाला बैल पूज्य
• घोड़े के प्रमाणिक साक्ष्य नहीं मिले हैं।

कलाः यहाँ बहुसंख्यक गुलाबी रंग के मृद भाण्ड प्राप्त हुए हैं, जिन पर लाल व काले रंग से चित्र बने हुए हैं।
• सील – अधिकांशत: सेलखड़ी (स्टेटाइड) की बनी हुई मूलत: वर्गाकार सीलें या मोहरें प्राप्त हुई हैं। कुछ सीलें हाथीदाँत की भी हैं। सबसे प्रसिद्ध सील पशुपति (योगी) की सील है।
• मोहनजोदड़ो से 12 सेन्टीमीटर लम्बी एक नर्तकी की काँस्य मूर्ति प्राप्त हुई है, जिसमें जूड़ा बाँधे एक युवती नृत्य मुद्रा में दिखाई गई है।
● व्यापारः व्यापार का अर्थव्यवस्था में महत्त्वपूर्ण स्थान था। यहाँ से कपास, गेहूँ, गन्ना, हाथी दाँत आदि का निर्यात होता था। इसके प्रमाण मेसोपोटामिया क्षेत्र से प्राप्त हड़प्पन सीलें व अभिलेख हैं। सिन्धुवासी ताँबा गणेश्वर (राजस्थान), सोना कोलार (दक्षिण भारत) व लकड़ी कश्मीर से मँगाते थे। विभिन्न प्रकार की धातुओं
का आयात दक्षिण और पूर्वी भारत, कश्मीर, कर्नाटक और नीलगिरी से होता था। सिंधुवासियों के मेसोपोटामिया, अफगानिस्तान व मध्य एशिया क्षेत्र के साथ व्यापारिक संबंध थे। क्रय-विक्रय सम्भवतः वस्तु विनिमय के माध्यम से किया जाता होगा।

धर्म-
● लिंग पूजा
• मातृ देवी की पूजा
• पशुपति (शिव) की पूजा
• पशु पूजा- कूबड़ युक्त बैल
• वृक्ष पूजा-पीपल का वृक्ष- अग्नि पूजा के परोक्ष प्रमाण (कालीबंगा व लोथल से अग्निकुण्ड की प्राप्ति)

अवसान- सिन्धु घाटी सभ्यता के अवसान की दो धारणाएँ हैं-

1. यकायक- बड़ी दुर्धटना जैसे भूकम्प आदि या आक्रमण द्वारा । मार्टिसर व्हीलर का मत है कि आर्यों के आक्रमण ने इस सभ्यता को नष्ट किया।
2. क्रमिक अवसान- ओरेल स्टीन के अनुसार जलवायु परिवर्तन के कारण

सिन्धु घाटी सभ्यता की भारत को देन- 16 के गुणज में व्यवहृत पैमाना ।

• हल का प्रयोग व जुताई – आज भी पश्चिमोत्तर भारत में उसी पद्धति (कालीबंगा की शैली) से जुताई होती है। केश विन्यास (जूड़ा)- मोहनजोदड़ो से प्राप्त नर्तकी की मूर्ति
की तरह का केश विन्यास आज भी प्रचलित है।

• धार्मिक प्रभाव: मातृ देवी की पूजा- इसका रूपान्तरण सनातन धर्म की विभिन्न देवियों के रूप में हुआ। पशुपति शिव की पूजा, पीपल वृक्ष की पूजा, पशु पूजा, लिंग पूजा आज भी प्रचलित है।

सिंधु सभ्यता अथवा हड़प्पा सभ्यता के पतन के पश्चात् सैंधव

• प्रदेश में आर्यों द्वारा एक नवीन सभ्यता का विकास किया गया। जिसे इतिहास में वैदिक सभ्यता के नाम से जाना जाता है। वैदिक सभ्यता के निर्माता आर्य थे। आर्यों के मूल निवास के संबंध में निम्न सिद्धान्तों का प्रतिपादन किया गया है-
● यूरोपीय सिद्धान्त- इस, सिद्धान्त के अनुसार आर्यों का मूल निवास स्थान यूरोप था। इसका प्रतिपादन सर विलियम जोन्स ने किया। जर्मनी के प्रसिद्ध विद्वान मैक्समूलर के अनुसार आर्य मध्य एशिया (ईरान) से आए थे। इनके पक्ष में पोट, श्लीगल आदि भी हैं।
● लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक ने आर्कटिक प्रदेश (उत्तरी ध्रुव) को आर्यों का मूल स्थान बताया है। डॉ. गंगानाथ झा के अनुसार आर्यों का आदि देश ब्रह्मर्षि देश
(कुरु, पांचाल, शूरसेन तथा मत्स्य जनपद) भारत था ।

स्वामी दयानन्द सरस्वती ने तिब्बत को आर्यों का आदि देश माना है। ‘पार्जितर’ ने भी इनके मत का समर्थन किया है। पी. गाइल्स ने आर्यों को समशीतोष्ण प्रदेश (विशेषत: हँगरी क्षेत्र) का मूल निवासी बताया है। दक्षिणी रूस के स्टेपी मैदानों को आर्यों का मूल निवास मानने वाले विद्वान नेहरिंग व पीकानो हैं । एल.डी. कल्ल आदि विद्वान आर्यों का मूल निवास कश्मीर क्षेत्र को मानते हैं। सर्वाधिक मान्य सिद्धान्त : प्रो. मैक्समूलर द्वारा प्रतिपादित मध्य एशिया का सिद्धान्त।

भारत में आर्यों का आगमन लगभग 1500 ई.पू. का माना जाता है। प्रारम्भ में इनके अधिवास का प्रधान केन्द्र सप्त सैंधव प्रदेश (सिन्धु व उसकी सहायक नदियों का क्षेत्र) था, जो उत्तरवैदिक काल में गंगा यमुदा के मैदान में स्थानान्तरित हो गया।

वैदिक काल को दो भागों में बाँटा गया है-

1. ऋग्वैदिक काल – (1500 ई.पू. – 1000 ई.पू.),
2. उत्तरवैदिक काल- (1000 ई.पू. – 600 ई.पू.)

वैदिक सभ्यता का सामाजिक जीवनः समाज पितृसत्तात्मक था। ऋग्वैदिक काल में स्त्रियों को समाज में सम्माननीय स्थान प्राप्त था। घोषा, अपाला आदि इस काल की प्रमुख विदुषी महिलाएँ थीं। महिलाएँ धार्मिक समारोहों एवं कबिलाई सभाओं में भाग लेती थी। उत्तर वैदिक काल में स्त्रियों की स्थिति शोचनीय हो गई थी, लेकिन इस काल में भी गार्गी, मैत्रेयी आदि विदुषी महिलाएं हुई।

● वैदिक लोगों का आर्थिक जीवन- वैदिक अर्थव्यवस्था मुख्यतः पशुपालन एवं कृषि पर आधारित थी। ऋग्वेद के प्रथम, चौथे एवं दसवें मंडल में कृषि विषयक तथ्य मिलते है। प्रारंभ में आर्यों को ‘यव’ (जौ) एवं ‘धान्य’ एवं गोधूम (गेहूँ) अनाजों की जानकारी थी।

• व्यापार-वाणिज्य: ऋग्वैदिक आर्यों को सोना एवं ताँबा धातु की जानकारी थी। चाँदी का उल्लेख अथर्ववेद में मिलता है। आर्यों ने लोहे को उपयोग में लिया था। व्यापारियों के लिए ऋग्वेद में ‘पणि’, ‘वणिज’ एवं ‘वणिक’ आदि शब्द प्रयुक्त हुए हैं। ऋग्वैदिक काल में व्यापार छोटे स्तर पर था तथा मुख्यतः वस्तु-विनिमय प्रणाली पर आधारित था।

• पशुपालनः आर्यों को गाय, घोड़ा, भेड़-बकरी, बैल, हाथी, कुत्ता, भैंस, गधा, ऊँट आदि पशुओं की जानकारी थी। ‘गाय’ ऋग्वैदिक काल में सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण पशु थी। संभवत: गाय विनिमय का साधन थी।

दास प्रथाः ऋग्वैदिक काल से ही दास प्रथा विद्यमान थी। अधिकतर दास महिलाएँ थी।

● ऋग्वैदिक काल में आर्य कबीलों के रूप में एक स्थान से दूसरे स्थान पर परिभ्रमण करते रहते थे परन्तु उत्तरवैदिक काल में ये एक क्षेत्र विशेष में स्थायी रूप से रहने लगे तथा ऋग्वैदिक ‘जन’ अब ‘जनपदों’ में रूपान्तरित हो गए।

• पांचाल, कुरु, काशी, कौशल, विदेह, मत्स्य, चेदि, मगध, अंग आदि इस काल के प्रमुख जनपद थे।

• ऋग्वैदिक काल में प्रारम्भ में राजव्यवस्था गणतंत्रात्मक थी जो बाद में वंशानुगत (राजतंत्रात्मक ) हो गई।
• राजा जिन मंत्रियों की सहायता से कार्य करता था, उन्हें ‘रलिन’ कहा जाता था।
• यह एक ग्राम प्रधान (ग्रामीण) सभ्यता थी। आर्यों का प्रमुख धन्धा कृषि व पशुपालन था। वर्ष में दो फसलें ली जाती थी।

• आर्यों के जीवन में घोड़े एवं रथ का स्थान महत्त्वपूर्ण था। घोड़ा शक्ति का प्रतीक था। घोड़े एवं रथ के प्रयोग से आर्यों को अपने विस्तार में सहायता मिली। युद्धों में घोड़े के प्रयोग ने उन्हें व्यापक सफलता प्रदान की।

ऋग्वैदिक काल में अग्निदेव एक महत्त्वपूर्ण देवता थे, परंतु उनकी स्वतंत्र देवता के रूप में पूजा नहीं की जाती थी। आर्य लोहे से परिचित थे। कृषि औजार लोहे व लकड़ी से बने होते थे। लोहे को ‘कृष्ण अयस्क’ कहा जाता है।

● व्यापारी को ‘पणि’ कहा जाता था। व्यापार का माध्यम वस्तु विनिमय था। गाय मूल्य की प्रमाणिक ईकाई थी।

• आश्रम व्यवस्थाः ऋग्वैदिक काल में आश्रम व्यवस्था नहीं थी। उत्तरवैदिक काल में आश्रम व्यवस्था का प्रादुर्भाव हुआ। आश्रम प्रणाली का सर्वप्रथम उल्लेख ‘ऐतरेय ब्राह्मण’ में मिलता है। जबाला उपनिषद् में याज्ञवल्क्य ने 4 आश्रमों का प्रतिपादन किया है। इसमें मनुष्य की संपूर्ण जीवन की आयु 100 वर्ष
मानकर निम्न चार आश्रम निर्धारित किए गए-

• आश्रम व्यवस्थाः-

ऋग्वैदिक काल में आश्रम व्यवस्था नहीं थी। उत्तरवैदिक काल में आश्रम व्यवस्था का प्रादुर्भाव हुआ। आश्रम प्रणाली का सर्वप्रथम उल्लेख ‘ऐतरेय ब्राह्मण’ में मिलता है। जबाला उपनिषद् में याज्ञवल्क्य ने 4 आश्रमों का प्रतिपादन किया है। इसमें मनुष्य की संपूर्ण जीवन की आयु 100 वर्ष मानकर निम्न चार आश्रम निर्धारित किए गए-

1. ब्रह्मचर्य आश्रम (25 वर्ष की आयु तक )- इसमें व्यक्ति विद्याध्ययन करता था।
2. गृहस्थाश्रम (25-50 वर्ष )- इसमें व्यक्ति विवाह कर जीविकोपार्जन एवं गृहस्थी का निर्वहन करता था।
3. वानप्रस्थाश्रम (50-75 वर्ष)- इसमें व्यक्ति को वन की ओर गमन करना होता था।
4. संन्यासाश्रम (75-100 वर्ष)- इसमें व्यक्ति को सांसारिक मोह माया त्यागनी होती थी।

आर्य मूर्ति पूजक नहीं थे बल्कि बड़े-बड़े यज्ञ करते थे।
• चार वर्ण : ऋग्वैदिक काल के आरंभ में तीन वर्ण (ब्राह्मण, क्षत्रिय एवं वैश्य) थे। ऋग्वेद के दसवें मण्डल के पुरुष सूक्त में पहली बार निम्न चार वर्णों का उल्लेख मिलता है-

● ब्राह्मण- ब्राह्मण वे थे जिनकी उत्पत्ति आदि पुरुष के मुख से हुई है। ब्राह्मण वर्ण का समाज में महत्त्वपूर्ण स्थान था। इनका मुख्य कार्य वेदों का पठन-पाठन करना, भिक्षा तथा दान ग्रहण करना तथा धार्मिक अनुष्ठानों को सम्पन्न कराना था।

• क्षत्रिय क्षत्रियों की उत्पत्ति आदि पुरुष की भुजाओं से हुई मानी जाती है। इस वर्ण का कार्य बाहरी आक्रमण से देश की रक्षा करना तथा देश अथवा राज्य को आंतरिक सुरक्षा प्रदान करना था।

• वैश्य- वैश्य की उत्पत्ति आदि पुरुष की जंघाओं से हुई। यह कृषि, पशुपालन, उद्योग-धन्धे व व्यवसायों में संलग्न वर्ण था ।

शूद्र- इनकी उत्पत्ति आदि पुरुष के चरणों से हुई मानी जाती है। यह चौथा वर्ण था। आर्यों द्वारा विजित दास धीरे- धीरे शूद्र वर्ण बन गये। इसका समाज में निम्नतम स्थान
था। तीनों वर्णों की सेवा करना शूद्र का मुख्य कार्य था। प्रारंभ में वर्ण व्यवस्था कर्म आधारित थी लेकिन उत्तरवैदिक काल में धीरे-धीरे यह जन्म पर आधारित हो गई। जिसने बाद में जाति व्यवस्था का रूप ले लिया।

महात्मा बुद्ध (गौतम बुद्ध ): बौद्ध धर्म के प्रवर्तक ।

• जन्म 563 ई.पू. में वैशाख पूर्णिमा को कपिल वस्तु के निकट लुम्बिनी वन में। बचपन का नाम: सिद्धार्थ ।
• पिता शुद्धोधन (कपिलवस्तु के शाक्य गणराज्य के प्रधान) । माताः महामाया (कोलियागण की राजकन्या)
• पत्नी : यशोधरा व पुत्रः राहुल। जन्म के 7वें दिन माता की मृत्यु के पश्चात् विमाता प्रजापति गौतमी द्वारा लालन-पालन
• सिद्धार्थ के बारे में ज्योतिषियों ने भविष्यवाणी की थी कि वे या तो चक्रवर्ती सम्राट बनेंगे या महान् साधु ।
• चार दृश्य जिसने सिद्धार्थ का जीवन परिवर्तित किया-
1. वृद्ध व्यक्ति
2. व्याधिग्रस्त मनुष्य
3. एक मृतक
4. एक संन्यासी

सिद्धार्थ ने 29 वर्ष की आयु में गृह त्याग दिया। बौद्ध साहित्य में यह घटना ‘महाभिनिष्क्रमण’ कहलाती है। गृहत्याग के बाद उन्होंने गोरखपुर के समीप अनोमा नदी के तट पर संन्यास धारण किया। वैशाली के आलारकालाम उनके प्रथम गुरु बने । सिद्धार्थ को सारनाथ में निरंजना नदी के किनारे पीपल वृक्ष (Banyan Tree) के नीचे 48 दिन तक समाधि धारण करने के उपरान्त वैशाख पूर्णिमा की रात को केवल ज्ञान की प्राप्ति हुई। ज्ञान प्राप्ति पर सिद्धार्थ ‘बुद्ध’ कहलाए तथा वह वृक्ष व स्थान क्रमश: बोधिवृक्ष एवं बोधगया कहलाया। ज्ञान प्राप्त होने की घटना को सम्बोधि कहा जाता है।

• बुद्ध ने अपना प्रथम उपदेश सारनाथ (ऋषिपतनम) के हिरण वन में उन पाँच ब्राह्मणों को दिया था जो पूर्व में उन्हें पथभ्रष्ट समझकर उनका छोड़कर चले गए थे। इसे ‘धर्मचक्रप्रवर्तन’ कहा जाता है। बुद्ध ने जनसाधारण की भाषा ‘मागधी’ में अपने उपदेश दिए। कौशल की राजधानी ‘ श्रावस्ती’ में उन्होंने सर्वाधिक उपदेश दिए।

• अश्वजित, उपालि, मोदग्ल्यायन, श्रेयपुत्र एवं आनन्द बुद्ध के प्रथम पाँच शिष्य थे। बिम्बिसार (मगध), उदयन (कोशाम्बी) एवं प्रसेनजित (कौशल) उनके मुख्य अनुयायी शासक थे। तपस्सु और कल्लिक बुद्ध के प्रथम शुद्र अनुयायी थे।

• 45 वर्ष तक धर्म का प्रचार-प्रसार करने के बाद 80 की आयु में 483 ई. पू. में कुशीनगर, मल्ल गणराज्य की राजधानी में वैशाख पूर्णिमा को बुद्ध की मृत्यु हो गई, जिसे बौद्ध साहित्य में ‘महापरिनिर्वाण’ कहा गया है। बुद्ध ने अपना अंतिम उपदेश शुभच्छ (कुशीनगर का परिव्राजक) को दिया।

• बुद्ध के जीवन से जुड़े चार पशु –

1. हाथी – बुद्ध के गर्भ में आने का प्रतीक
2. साँड – यौवन का प्रतीक
3. घोड़ा गृह त्याग का प्रतीक
4. शेर – समृद्धि का प्रतीक

● बुद्ध के जीवन की घटनाएँ :
महाभिनिष्क्रमण – गृहत्याग की घटना सम्बोधि – पीपल वृक्ष के नीचे ज्ञान प्राप्त होने की घटना
• धर्मचक्रप्रवर्तन – उपदेश देने की घटना
• महापरिनिर्वाण – मृत्यु
• बौद्ध धर्म में संघ का अर्थ ‘बौद्ध भिक्षुओं’ का जनतांत्रिक संगठन था।
• प्रजापति गौतमी – महात्मा बुद्ध की विमाता। ये बुद्ध के संघ में

प्रथम महिला के रूप में प्रविष्ट हुईं।
वैशाख पूर्णिमा के दिन ‘बुद्ध का जन्म’, ‘ज्ञान की प्राप्ति’ और ‘मृत्यु’ हुई थी।

बौद्ध साहित्य : बौद्ध साहित्य पाली भाषा में लिखा गया है। बौद्ध साहित्य में त्रिपिटक सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण हैं। ये हैं-
1. सुत्तपिटक : बौद्धधर्म के सिद्धान्तों और उपदेशों का वर्णन। यह पाँच भागों में विभक्त है-
1. दीर्घ निकाय, 2. मज्झिम निकाय, 3. संयुक्त निकाय, 4. अंगुतर निकाय एवं 5. खुद्दक निकाय ।

2. अभिधम्म पिटक: बौद्ध धर्म का दार्शनिक विवेचन, जिसका सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण ग्रंथ ‘कथा वत्थु’ है।
3. विनय पिटक: भिक्षु-भिक्षुणियों के संघ व उनके दैनिक जीवन व आचरण सम्बन्धी नियमों का वर्णन।

● अन्य प्रमुख बौद्ध ग्रंथ:-

• जातक कथाएँ : पालि भाषा में रचित इन कथाओं में बुद्ध के पूर्व जन्म की कथाएँ एवं बुद्ध कालीन धार्मिक, सामाजिक तथा आर्थिक जीवन का वर्णन मिलता है।
• मिलिन्दपन्हो : प्रथम शताब्दी ई.पू. में नागसेन कृत पालि भाषा में रचित इस ग्रंथ में यूनानी शासक मिलिन्द और बौद्ध भिक्षु नागसेन के मध्य दार्शनिक विषय को लेकर हुए वाद-विवाद का वर्णन किया गया है।
• दीपवंश-महावंश : पालि भाषा में इन दोनों ग्रंथों की रचना श्रीलंका में की गई। सारिपुत्र प्रकरण, बुद्ध चरित तथा सौन्दरानन्द : अश्वघोष द्वारा रचित ग्रंथ हैं, जो संस्कृत में लिखे गये हैं। अन्य ग्रन्थः महाविभाष (वसुमित्र) महावस्तु, दिव्यावदान अट्ठकथा,

बौद्ध धर्म की शिक्षाएँ:
• चार आर्य सत्य : बौद्ध धर्म के सिद्धान्तों की आधारशिला उनके चार आर्य सत्यों में निहित हैं। ये हैं-
1. दुःख: संसार दुःखों का घर है।
2. दुःख समुदाय : दुःखों का कारण तृष्णा है।
3. दुःख निरोधः तृष्णा का विनाश ही दुःख निरोध का मार्ग है।
4. दुःख निरोध मार्गः तृष्णा का विनाश अष्टांगिक मार्ग द्वारा सम्भव है। इसे दुःख निरोध गामिनी प्रतिपदा भी कहते हैं।

• अष्टांगिक मार्ग :
1. सम्यक् दृष्टि- चार आर्य सत्यों की सही परख
2. सम्यक् वचन- सत्य बोलना
3. सम्यक् संकल्प- भौतिक वस्तु तथा दुर्भावना का त्याग
4. सम्यक् कर्म- सत्य कर्म करना
5. सम्यक् आजीव- ईमानदारी से आजीविका कमाना।

6. सम्यक् व्यायाम- शुद्ध विचार ग्रहण करना।
7. सम्यक् स्मृति- मन, वचन तथा कर्म की प्रत्येक क्रिया के प्रति सचेत रहना।
8. सम्यक् समाधि- चित्त की एकाग्रता ।

• मध्यम प्रतिपदा सिद्धान्त : बुद्ध द्वारा प्रतिपादित इस सिद्धान्त के अनुसार मनुष्य को न तो विलासिता में ही रत रहना चाहिए और न ही अपने शरीर को कष्ट देना चाहिए, बल्कि उसे शुद्धतापूर्वक नैतिक जीवन व्यतीत करना चाहिए।

● बौद्ध धर्म मूलत: अनीश्वरवादी व अनात्मवादी है। बुद्ध का पुनर्जन्म में विश्वास था।
• प्रतीत्य समुत्पाद : प्रतीत्य का अर्थ है -‘इसके होने से’ और समुत्पाद का अर्थ है- ‘यह उत्पन्न होता है’ अर्थात् किसी कारण से कोई बात उत्पन्न होती है। प्रत्येक घटना के पीछे कार्य-कारण का सम्बन्ध है। कार्य-कारण का यही सिद्धान्त प्रतीत्यसमुत्पाद के नाम से जाना जाता है |

बौद्ध सम्प्रदायः
• हीनयान : यह परम्परावादियों का संघ है, जो बौद्ध धर्म के प्राचीन आदर्शों को बिना किसी परिवर्तन के पूर्ववत् बनाए रखना चाहते थे। इस सम्प्रदाय के लोग मगध, ब्रह्मा तथा श्रीलंका में थे।

• महायान : यह परिवर्तनवादी विचारधारा का समर्थक है जो बौद्ध धर्म के प्राचीन स्वरूप में समयानुसार परिवर्तन एवं सुधार को महत्व देता है। इसमें बुद्ध को देवत्व प्रदान कर उनकी मूर्तिपूजा की जाने लगी।

• वज्रयान : इस सम्प्रदाय के अनुयायी बुद्ध को अलौकिक शक्तियों वाला पुरुष मानते थे। उनका मंत्र, हठयोग तथा तांत्रिक क्रिया- कलापों में विश्वास था। यह सम्प्रदाय तिब्बत एवं चीन में विशेष रूप से प्रचलित हुआ।

● तीर्घकर: जैन धर्म के संस्थापक एवं कैवल्य ज्ञान प्राप्त महात्माओं को तीर्थंकर माना गया है। जैन धर्म में 24 तीर्थकर हैं, जिनमें ऋषभदेव (प्रथम तीर्थकर व जैन धर्म के संस्थापक), पार्श्वनाथ (23वें तीर्थकर) व महावीर स्वामी (24वें तीर्थकर) मुख्य हैं।

पार्श्वनाथ: जैन धर्म के 23वें तीर्थकर, जन्म 8वीं सदी ई. पू. में ।

• पिता: अश्वसेन (काशी नरेश) । माता : वामा, पत्नी : प्रभावती (कुशस्थल देश की राजकुमारी)
• 30 वर्ष की आयु में गृह-त्याग। सम्मेद शिखर पर्वत (वर्तमान झारखण्ड) पर ज्ञानप्राप्ति। पार्श्वनाथ का प्रतीक चिन्ह सर्प है।
• चार उपदेश – (1) अहिंसा (2) सत्य (3) अस्तेय (4) अपरिग्रह
• पार्श्वनाथ के अनुयायियों को ‘निर्ग्रन्थ’ कहा जाता था। इन्होंने नारियों को अपने धर्म में प्रवेश दिया।

महावीरः जैन धर्म के 24वें व अंतिम तीर्थकर महावीर स्वामी का जन्म कुण्डग्राम (वैशाली) में हुआ ।
• पिता : सिद्धार्थ (वज्जि संघ के प्रमुख) । माता : त्रिशला (वैशाली के राजा चेटक क़ी बहन)
• बचपन का नाम : वर्द्धमान, पत्नी : यशोदा । पुत्री : अणोज्जा (प्रियदर्शना) । दामाद : जामालि
• वर्द्धमान ने माता-पिता की मृत्यु के पश्चात् 30 वर्ष की आयु में अपने बड़े भाई नन्दिवर्धन से अनुमति लेकर संन्यास लिया।
• 12 वर्षों की कठोर तपस्या तथा साधना के पश्चात् जम्भिक ग्राम के समीप ऋजुपालिका नदी के तट पर साल वृक्ष के नीचे उन्हें कैवल्य ज्ञान की प्राप्ति हुई। तब वे केवलिन, जिन (विजेता), और निर्ग्रन्थ कहलाये तथा धर्म जैन धर्म कहलाया।
• जैन धर्म के प्रचार हेतु महावीर स्वामी ने पावापुरी में जैन संघ की स्थापना की।
• महावीर के प्रथम शिष्य उनके दामाद जामालि बने। प्रथम जैन भिक्षुणी नरेश दधिवाहन की पुत्री चम्पावती थी ।
• 30 वर्षों तक धर्म का प्रचार करने के बाद 72 वर्ष की आयु में राजगृह के समीप पावापुरी में राजा हस्तिपाल के सानिध्य में शरीर त्याग दिया, उनकी मृत्यु को जैनमत में निर्वाण कहा गया है।
• महावीर की मृत्यु के बाद केवल एक गणधर सुधर्मन जीवित बचा जो जैनसंघ का उनके बाद प्रथम अध्यक्ष बना।

जैन धर्म के सिद्धान्त एवं शिक्षाएँ –

• अनिश्वरवादी : जैन अनुयायी ईश्वर को नहीं मानते। उनके अनुसार सृष्टि अनादि और अनन्त है।
• महावीर का आत्मा के पुनर्जन्म सिद्धान्त तथा कर्म के सिद्धान्त में विश्वास था।
• त्रिरत्न : आत्मा को कर्म के बंधन से मुक्त करने के लिए त्रिरत्न आवश्यक हैं, जो निम्न हैं-
1. सम्यक् ज्ञान- वास्तविक ज्ञान, 2. सम्यक् दर्शन- जैन तीर्थंकरों में विश्वास रखना1, 3. सम्यक् चरित्र- पंच महाव्रत का पालन।

● पंच महाव्रत :
• अहिंसा: मन, कर्म तथा वचन से किसी के प्रति ऐसा व्यवहार नहीं करना चाहिए, जिससे उसे दुःख अथवा कष्ट हो।
• सत्य: मनुष्य को सदैव मधुरता के साथ सत्य बोलना चाहिए।
● अस्तेयः चोरी नहीं करना।
• ब्रह्मचर्य: भोग वासना से दूर रहकर संयमपूर्ण जीवन व्यतीत करना।
• अपरिग्रहः संग्रह नहीं करना।

नोट : प्रथम चार महाव्रतों का प्रतिपादन 23 वें तीर्थकर पार्श्वनाथ व अंतिम महाव्रत का प्रतिपादन भगवान महावीर ने किया।
● महावीर वेदों के प्रभुत्व को स्वीकार नहीं करते। वे व्रत, उपवास व तपस्या पर अत्यधिक बल देते थे।
• स्यादवाद का सिद्धान्त: स्यादवाद ज्ञान की सापेक्षता का सिद्धान्त है। इस मत के अनुसार किसी वस्तु के अनेक धर्म (पहलू) होते है तथा व्यक्ति अपनी सीमित बुद्धि द्वारा केवल कुछ ही पहलूओं को जान सकता है। अतः सभी विचार अंशत: सत्य होते हैं। पूर्ण ज्ञान तो कैवलिन के लिए ही सम्भव है।
• भगवान महावीर का प्रतीक चिन्ह सिंह है। उन्होंने अपने उपदेश प्राकृत भाषा में दिए जो जन सामान्य की भाषा थी।
● सम्प्रदाय का विभाजन: महावीर स्वामी की मृत्यु के पश्चात् लगभग दो शताब्दियों तक जैन अनुयायी संगठित रहे किन्तु

मौर्य काल में जैनधर्म दो सम्प्रदायों में विभक्त हो गया-(1) दिगम्बर सम्प्रदाय- इस सम्प्रदाय के साधुओं के लिए सम्पत्ति के पूर्ण बहिष्कार का प्रावधान है। इस सम्प्रदाय के साधु दिशाओं को ही वस्त्र समझकर नंगे रहते हैं। भद्रबाहु ने इनका नेतृत्व किया। (2) श्वेताम्बर सम्प्रदाय- इस सम्प्रदाय के साधु- साध्वियाँ सफेद वस्त्र धारण करते हैं, जिन्हें वे अहिंसा एवं शान्ति का प्रतीक समझते हैं। स्थूलबाहु ने इनका नेतृत्व किया।

जैन सभाएँ : प्रथम जैन सभा: यह सभा चन्द्रगुप्त मौर्य के शासनकाल (322-298 ई. पू.) में पाटलीपुत्र में भद्रबाहु एवं सम्मूति विजय के निरीक्षण में हुई। इसमें जैन धर्म के महत्त्वपूर्ण 12 अंगों का प्रणयन व धर्म का श्वेताम्बर व दिगंबर में विभाजन हुआ।

द्वितीय जैन सभा: यह सभा छठी शताब्दी (512 ई.) में गुजरात के वल्लभी नामक स्थान पर देवर्धिगणी की अध्यक्षता में हुई। इसमें जैन धर्मग्रंथों को अंतिम रूप से संकलित कर लिपिबद्ध किया गया। बीच में एक जैन सभा चौथी शताब्दी में निम्न स्थानों पर हुई थी- 1. मथुरा : अध्यक्ष (आर्य स्कन्दिल) एवं
2. वल्लभी (अध्यक्ष-नागार्जुन सूरी)
• महावीर स्वामी के 11 शिष्य थे जो गणधर या गंधर्व कहलाये थे। जैन धार्मिक ग्रंथ ‘आगम’ कहलाते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

DMCA.com Protection Status
Scroll to Top